Women




नीतिश राज में लाचार बिहार के पिछड़े व दलित

अफ़रोज़ आलम साहिल, TwoCircles.net

पटना: बिहार के पिछड़े, दलित और महादलित सूबे के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार के बड़े वोट-बैंक रहे हैं. इन तबक़ों ने बीते विधानसभा चुनाव में महागठबंधन को जमकर अपना समर्थन दिया था. नीतिश कुमार ने इनकी स्थिति में सुधार और चमत्कार के तमाम वादे भी कर रखे थे. मगर पिछले एक साल में ऐसा कुछ भी नहीं हुआ, जिसे एक यादगार उपलब्धि के तौर पर गिना जाए.

Mobile app for MPs to track women's health

New Delhi : A mobile application Swasthya Samiksha was launched here on Thursday which enables Members of Parliament to track women's reproductive health in their constituencies and bring improvement.

White Ribbon Alliance India, Centre for Catalysing Change and Swaniti Initiative, all not-for-profit organisations, collaboratively launched the app to help the MPs oversee the maternal health related indicators in their constituencies.

Tinkering with Muslim personal laws would be like desecrating Indian Constitution: AIMPLB

By Pervez Bari, TwoCircles.net

AIMPLB announces formation of Women's Wing under Dr Asma Zahra

“UCC under Article 44 is highly inflammable issue, which divides the nation, creates discomfort among citizens, creates a sense of insecurity among law abiding Muslim citizens and also alienates them from National mainstream.”

14 साल की बच्ची का अपहरण, पुलिस को 9 दिनों में भी नहीं मिल सका कोई सुराग़

TwoCircles.net Staff Reporter

दरभंगा : बिहार राज्य के दरभंगा ज़िले के बाढ़ समैला नामक एक गांव में 14 साल की एक लड़की पिछले 9 दिनों से ग़ायब है और स्थानीय पुलिस को अब तक इसका कोई सुराग़ नहीं मिला है. ये उसी इलाक़े की पुलिस है, जिसने आतंकवाद के नाम पर यहां से कई युवकों का ‘इंडियन मुजाहिदीन’ के साथ जुड़े होने का सुराग़ निकाल कर धड़ल्ले से गिरफ़्तारियां की हैं.

One lakh women attend annual Sunni Ijtema in Mumbai

By TCN News

More than 1 lakh women attended the 26th Grand Annual Sunni Ijtema event to acquire Islamic knowledge; understand their roles and responsibilities, prepare themselves in accordance with Islamic teachings for developing a moral society.

सीमांचल की ज़मीन पर साहित्य का इंटरनेशनल उत्सव

अफ़रोज़ आलम साहिल, TwoCircles.net

बिहार के किशनगंज में इंटरनेशनल लिटरेरी फेस्टिवल...! ये बात कईयों के लिए हैरानी का सबब बन सकती है. मगर ये ख़ूबसूरत सच्चाई है. इस सच्चाई को साकार करने का बीड़ा ज़फ़र हसन अंजुम ने उठाया है. किशनगंज में पले-बढ़े ज़फ़र सिंगापूर में लेखन व पत्रकारिता करते हैं. साथ ही सिंगापुर स्थित ‘किताब इंटरनेशनल’ नामक पब्लिशिंग कम्पनी के संस्थापक हैं.

Woman has miscarriage as Bihar clinic declines old notes

Patna : A Patna resident on Wednesday claimed that his unborn child died because a clinic refused to conduct an ultrasound on his wife in exchange of demonetised Rs 500 and Rs 1,000 currency notes.

Rajeev Ranjan Singh, a resident of Ramlakhan Path in Kankarbagh colony here, said that he rushed to a physician his pregnant wife after she complained of stomach pain. The physician recommended an ultrasound diagnostic test. But the clinic refused to accept old notes of Rs 500 or Rs 1,000 denomination.

In a first, Kashmiri woman pens stories of abuse faced by women

By Raqib Hameed Naik, TwoCircles.net

Srinagar: Azra Mufti might not be a well known name in the literary circles of the country, but this 25 year old girl from conflict-torn Kashmir has come up with a novel which focuses on the various painful stories about tolerance and violence against women in general.

Pink, Akira and ten years of police reform in India

By Pushkar Raj for TwoCircles.net

Pink and Akira, two recent Bollywood hit films, depict an ugly reality of the police in India. It seems much has not changed in country for the last ten years since the Supreme Court in Prakash Singh case ordered in September 2006 that the police must be made functionally autonomous and accountable by enacting new police laws.

दलित-मुस्लिम महिलाओं के हक के लिए लड़ती कनीज़ फातिमा

फहमिना हुसैन, TwoCircles.net

आजमगढ़(उत्तर प्रदेश): हमारे समाज में आज भी जब औरतें आजीविका के लिए घर से बाहर कदम रखती हैं तो उन्हें कड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, लेकिन यदि उनमें जज्बा हो, तो वे समाज में अपने साथ-साथ दूसरों के जीने का भी एक आधार तैयार करती हैं. एक ऐसी ही कहानी आजमगढ़ के मुबारकपुर की रहने वाली कनीज़ फातिमा की है. कनीज़ ने बहुत ही कम उम्र में समाज की औरतों के हक़ की लड़ाई को शुरू किया. धीरे-धीरे उन्होंने अपने काम को आगे बढ़ाया और आगे चलकर ‘आली’ नामक संस्था के साथ जुड़कर समाज सेवा कर रही हैं.

Pages